अंक सितम्बर 2014
एक शिक्षिका के रूप में आज मैं जहाँ पदस्थ हूँ, वह छत्तीसगढ़ राज्य का एक छोटा-सा गाँव है। शुरू से ही ‘गाँव’ शब्द से मुझे विशेष प्रेम रहा, कारण हो सकता है कि मुझे कभी गाँव के वातावरण में रहने का मौका नहीं मिला था। गाँवों में भारत की आत्मा बसती है....ऐसा सुन रखा था, सो गाँव के विद्यालय में कार्य करने के अनुभव से ही मन रोमांचित हो उठा था। और जब बात 'धान का कटोरा' कहलाने वाले राज्य की हो तो कहना ही क्या? आदिवासी बहुल राज्य होने के कारण विद्यार्थियों में इनकी ....
इस अंक में ...