सामान्य ज्ञान - नवम्बर 2014 : इतिहास

इस बार हम बात करेंगे अंग्रेजों के बंगाल पर आधिपत्य की :-

  •     मुगल साम्राज्य के अंतर्गत आने वाले प्रान्तों में बंगाल सर्वाधिक सम्पन्न राज्य था ।
  •     मुर्शीद कुली खाँ स्वतंत्र शासक था , परंतु वह नियमत रूप से मुगल बादशाह को राजस्व भेजता था ।
  •     मुर्शीद कुली खाँ ने अपनी राजधानी ढाका से मुर्शीदाबाद (भागीरथी नदी के तट पर) स्थानांतरित की । इसने इजारेदारी प्रथा प्रारम्भ की तथा कृषकों को तक़ावी ऋण (खेती के लिए अग्रिम कर्ज) प्रदान किया । इसका उत्तराधिकारी इसका दामाद शुजाउद्दीन  हुआ ।
  •     1740 ई॰ के गिरिया के युद्ध में सरफराज को मारकर बिहार के सर सूबेदार अलीवर्दी खाँ बंगाल का नवाब बना । इसने अपने शासनकाल में मुगलों को राजस्व देना बंद कर दिया । इसके शासनकाल में बंगाल इतना स्मृद्धिशाली बन गया कि बंगाल को भारत का स्वर्ग कहा जाने लगा । इसका उत्तराधिकारी इसका दामाद सिरजुद्दौला हुआ ।
  •     20 जून, 1756 को कालकोठरी की त्रासदी नामक घटना घटी । इस घाटना के रचयिता ज़ेड॰ हालवेल के अनुसार नवाब सिराजुद्दौला ने 20 जून कि रात में 146 अंग्रेज़ व्यक्तियों को एक छोटी सी कोठरी में बंद कर दिया था । अगले दिन सुबह 146 में से केवल 23 लोग जिंदा बचे थे ।
  •     प्लासी का 23 जून, 1757 को अंग्रेजोंके सेनापति  रॉबर्ट क्लाइव एवं बंगाल के नवाब सिरजुद्दौला के बीच हुआ । जिसमें नवाब अपने सेनापति मीर जाफ़र के धोखाधड़ी करने की वजह से हार गया । अंग्रेजों ने मीर जाफ़र को बंगाल का नवाब बनाया ।
  •     क्लाइव के हाथों की कठपुतली नवाब मीर जाफ़र को अंग्रेजों ने 1760 ई॰ में हटा कर उसके दामाद मीर कासिम को बंगाल का अगला नवाब बनाया ।
  •     इसके पश्चात मीर कासिम ने अपनी राजधानी को मुर्शिदाबाद से मुंगेर स्थानांतरित किया
  •     बक्सर का युद्ध 1765 में अंग्रेजों और मीर कासिम, अवध के नवाब शुजाऊद्दौला एवं मुगल सम्राट शाह आलम द्वितीय के बीच हुआ । इस युद्ध में अंग्रेज़ विजयी हुए । इस युद्ध में अंग्रेज़ सेनापति हेक्टर मुनरो था ।
  •     बक्सर के युद्ध के बाद एक बार फिर मीर जाफ़र को बंगाल का नवाब बनाया गया । 5 जनवरी, 1765 ई॰ में मीर जाफ़र की मृत्यु हो गयी और एक बार फिर से बंगाल अंग्रेजों के सत्ता में आ गया ।

लेखक परिचय :
विशाल वर्मा लखनवी
फो.नं. -7836898542
ई-मेल - ccivishdem@gmail.com
इस अंक में ...