महान गणितज्ञ फिबोनकी

दुनिया के महानतम् गणितज्ञों में से एक लियोनार्डो फिबोनकी इटली के रहने वाले थे। उनका जन्म 1175 ई. में हुआ था। यद्यपि आज फिबोनकी मुख्य रूप से फिबोनकी क्रम के कारण ही अधिक प्रसिद्ध हैं, पर उन्होंने गणित की अन्य शाखाओं पर भी महत्वपूर्ण कार्य किया है। उन्होंने पाई (π) का मान 3.1410 और 3.1427 के बीच निर्धारित किया था। साथ ही उन्होंने ऐसे प्रश्नों को भी हल करने का प्रयत्न किया जिनके उत्तर ऋणात्मक होते हैं, जैसे '5 में से 8 घटाया जाए तो'। इस प्रश्न का उत्तर उन्होंने '3 का कर्ज' के रूप में प्रस्तुत किया था क्योंकि उस समय गणितज्ञ यह नहीं मानते थे कि संख्याएँ ऋणात्मक भी हो सकती हैं। इस प्रकार के कार्यो के फलस्वरूप ही उन्हें 'अपने समय से पूर्व का' गणितज्ञ माना जाता है।
फिबोनकी के नाम पर संख्याओं का जो क्रम है वह भी कम रोचक नहीं है। ये क्रम है 1, 2, 3, 5, 8, 13, 21, 34……… आदि। चूँकि सर्वप्रथम इन्हें फिबोनकी नामक गणितज्ञ ने ही खोजा था इसलिए इन संख्याओं को फिबोनकी नम्बर के नाम से जाना जाता है। शायद ही कोई ऐसा क्षेत्र हो जहाँ इनका प्रयोग न होता हो। परमाणु के नाभिक विज्ञान, वास्तुकला और यहाँ तक कि अनेक जगत प्रसिद्ध चित्रों में भी इनका करिश्मा स्पष्ट झलकता है।


लेखक परिचय :
संपादक
फो.नं. --
ई-मेल - idea.nasreen06@gmail.com
इस अंक में ...