सामान्य ज्ञान जून 2014 : अर्थव्यवस्था
  •  मूल्यवर्द्धित कर (VAT) एक सामान्य परोक्ष कर है, जो वस्तुओं तथा सेवाओं के आदान-प्रदान के प्रत्येक बिंदु पर प्राथमिक उत्पादन से लेकर अन्तिम उपभोग पर लगाया जाता है। अतः विनिमय के आखिरी बिंदु पर अन्तिम उपभोक्ता द्वारा समस्त कर भार सहन किया जाता है। वैट मूलरूप से केंद्र सरकार का विषय है, परन्तु राज्य सरकार को भी कुछ न्यूनतम साझे लक्षण रखने होंगे। इस कारण एक मॉडल मूल्य वृद्धि कर विधेयक सभी राज्यों को भेजा गया है।
     
  •  मुद्रास्फीति की दर का प्रतिशत जिसके द्वारा मुद्रा का मुद्रा का मुल्य गिर जाता है और कीमतें बढ़ जाती हैं। आर्थिक दृष्टि से सीमित एवं नियन्त्रित मुद्रास्फीति अल्पविकसित अर्थव्यवस्था हेतु लाभदायक होती है, क्योंकि इससे उत्पादन में वृद्धि को प्रोत्साहन मिलता है, किन्तु एक सीमा से अधिक मुद्रास्फीति हानिकारक है।
     
  •  मोडवेट (MODVAT) का पूर्ण विस्तार है– (Modified Value Added Tax) यह पूर्व में प्रचलित VAT (Value Added Tax) का ही संशोधित रूप है। वैट की संस्तुति 1976 में लक्ष्मीकान्त झा की अध्यक्षता में गठित समिति ने की थी।

लेखक परिचय :
संपादक
फो.नं. --
ई-मेल - idea.nasreen06@gmail.com
इस अंक में ...