प्रेरक विचार


महान ध्येय करने की कोई उम्र नहीं होती।

गलती करना मामूली बात है, लेकिन उसे मामूली बात समझना खतरनाक है।

धन से धन बनाया जा सकता है, विद्या से धन बनाया जा सकता है। लेकिन धन से विद्या नहीं मिलती है।

अपना एक-एक दिन सँवारें, जीवन  खुद-ब-खुद सँवर जाएगा। माला सिर्फ एक मोती या धागे से नहीं बनती, यह तो धागे और मोतियों का मेल है।

यदि आप खुश हैं तो दूसरों की खुशी में खलल न डालें। यदि आप खुश नहीं हैं, तो दूसरों की खुशी में ही अपनी खुशी तलाश करें।

सफल बनों, लेकिन विफलता और उसके कारण को न भूलो। विफल भले ही हों लेकिन सफल होने का लालच न छोड़ो।

जब तक सफलता नहीं मिलती, तब तक आप असफल प्रयास ही कीजिए। क्योंकि असफलता के खत्म होते ही सफलता है।

जीतते वही हैं जो जीतने के लिए कुछ करते हैं, न कि सिर्फ सोचते हैं।

हर हार यह प्रमाण है कि आपके प्रयास में कुछ कमी रह गई, इसलिए हार क्यों हुई इसके कारण को ढूढ़ों; दूर करो और फिर जीतो, बहुत आसान है जीतना। तुम भी कर सकते हो, करो।

मुश्किल के दिन आने पर पता चलता है कि पहले जब हम खुश थे। वही समय बेहतरीन था। अनायास ही हम अच्छे दिन आने का इंतजार कर रहे थे।

तीन प्रेरणादायी दोहे

पथ तेरा खुद ही सखे, हो जाये आसान।
यदि अंतर की शक्ति की, तू कर ले पहचान।।

गागर में सागर भरूँ, भरूँ सीप आकाश।
प्रभुवर! ऐसा तू मुझे, दे मन में विश्वास।।

बैठो यूँ न उदास तुम, मंजिल अब ना दूर।
यदि मन से तुम थक गए, तन भी होगा चूर।।


लेखक परिचय :
अमन सिंह
फो.नं. -09793797161
ई-मेल - [email protected]
इस अंक में ...