स्वेट मार्डेन के प्रेरक विचार
प्रस्तुत प्रसंग 'स्वेट मार्डेन' के आधुनिक विचारों के साथ भारतीय संस्कृति एवं परम्पराओं से प्रेरित विचारों को प्रस्तुत किया जा रहा है। जिसकी आवश्कता हर उन बुद्धिजीवियों के लिए लाभकारी सिद्ध होगा जो विपरीत परिस्थितियों में हतोत्साहित हो जाया करते हैं-
1:-"जीवन अति प्यारा व सुन्दर है। मनुष्य के मन में जब चिंता और निराशा उत्पन्न हो तो उसको अपनी विचारधारा को परिवर्तित कर दूसरी ओर लगाना चाहिए। साहस, आनंद और सफलता के सम्बन्ध में विचार करें। आशावादी और आत्मविश्वासी बनें।"
2:-"कोई भी चिंता हमें विरासत में नहीं सौंपी जाती है। हम अपने अज्ञान द्वारा ही चिंताओं को आमंत्रित करते हैं। ज्ञान और विवेक ही हमें चिंतामुक्त करने की सामर्थ्य देते हैं। ज्ञान ही सत्य जा दूसरा नाम है। सत्य ही भय और अंधविश्वास से हमें बचाता है।"
3:-"मनुष्य का सबसे बड़ा और शक्तिशाली शत्रु है, भय। भय मनुष्य के मन से ही उत्पन्न होता है। भय एक ऐसा भयानक शत्रु है जो मनुष्य की सभी शक्तियों को धूल में मिला देता है।
4:-"सफलता, समृद्धि और ख्याति प्राप्त करने का भी एक निश्चित समय होता है। सफलता का चिंतन करने वाला व्यक्ति ही सफलता प्राप्त कर सकता है।"
5:-"व्यर्थ का भ्रम मत पालो। मन में सदैव आत्मविश्वास रखो। सफलता अवश्य प्राप्त होगी। भ्रम और अंधविश्वास व्यर्थ का भय उत्पन्न करके मनुष्य स्वयं को कमजोर बना देते हैं।"
लेखक परिचय :
संपादक
फो.नं. --
ई-मेल - idea.nasreen06@gmail.com
इस अंक में ...