कुछ अनजानी बातें

'कुछ अनजानी बातें' शीर्षक से ही पाठकगण इसकी विषय सामग्री का अनुमान लगा सकते हैं। संसार में ऐसी बहुत-सी घटनाएँ घटती रहती हैं जो हमें चकित कर देती हैं, जिसकी जानकारी सदैव हमारे मन-मस्तिष्क को रोचकता व जिज्ञासा से भर देती हैं। प्रस्तुत स्तम्भ के माध्यम से हम पाठकों को संसार में हो रही अनजानी बातों से अवगत करना चाहते हैं, जो उनके ज्ञान अर्जन में सहायक सिद्ध होंगी। यह प्रत्येक पाठक वर्ग के लिए उपयोगी है। साथ-ही-साथ हम इस प्रकार की प्रामाणिक जानकारी रखने वाले लेखों व आपकेे बहुमूल्य सुझाव का स्वागत करते हैं।


1. हमारे शरीर के कुछ रोचक तथ्य

[ नवम्बर 2016 | मोहम्मद इमरान खान द्वारा लिखित ]
हमारा दिमाग अभी भी वैज्ञानिकों के लिए एक अबूझ पहेली है|  दस वाट के बल्ब की ऊर्जा के बराबर शक्ति प्रदान करने वाले हमारे दिमाग से भेजे गए संदेशों की गति 170 मील प्रति घंटे होती है|  अक्सर सुबह को काम के लिए ज्यादा उपयुक्त समझा जाता है पर दिमाग रात को ज्यादा एक्टिव होता है|  हमारी कलाई से .....
आगे पढ़ें ...

2. क्या आप जानते हैं?

[ जून-जुलाई 2015 संयुक्त अंक | मोहम्मद इमरान खान द्वारा लिखित ]
1:- हर तरफ मंदिर ही मंदिर       मध्य बर्मा (म्याँमार) में पागान नामक स्थान में आनंद मंदिर को आश्चर्य ही कहा जाता है। सन 1090 ई. में जब इस मंदिर का निर्माण पूरा हुआ तो वहाँ के राजा ने उसके शिल्पकार को सूली पर लटका दिया ताकि वह ऐसा मंदिर कहीं और न बना सके।       उस समय पागान एक शक्तिशाली साम्राज्य की .....
आगे पढ़ें ...

3. क्या आप जानते हैं?

[ मई 2015 | संपादक द्वारा लिखित ]
*1:- भारत को छोड़कर संसार में एक करोड़ टन से अधिक केले और तीन करोड़ टन प्लैनटेन पैदा होते हैं। अकेले भारत में ही 110 लाख टन केलों की पैदावार होती है।        प्लैनटेन एक लम्बा और सख्त केला होता है। इसमें स्टार्च होता है और इसे सब्जी की तरह ही पकाकर खाया जाता है। युगांडा में सबसे ज्यादा यानी 90 लाख टन प्लैनटेन पैदा .....
आगे पढ़ें ...

4. क्या आप जानते हैं ?

[ अप्रैल 2015 | संपादक द्वारा लिखित ]
(1) गेलेमोट्स नामक पक्षी पानी के भीतर भी उड़ सकता है। (2) मक्खियाँ पीछे की ओर भी उड़ सकती हैं। (3) मगरमच्छ कई बार पेड़ों पर भी चढ़ जाते हैं। (4) हाथी के बच्चे को अपनी सूंड का इस्तेमाल कैसे करना चाहिए यह सीखने में छः महीने लग जाते हैं। (5) .....
आगे पढ़ें ...

5. क्या आप जानते हैं ?

[ मार्च 2015 | संपादक द्वारा लिखित ]
(1) 99 का फेर:- भाग्यशाली नम्बरों के जादू से थाईलैंड के परिवहन मंत्री भी नहीं बच सके। उन्होंने एक नीलामी में लकी नम्बर प्लेट के लिए 95 हजार डालर यानि करीब पचास लाख रुपए अदा किये। परिवहन मंत्री सूरिया जुंगरूंगरियांकित ने 9999 नम्बर की रजिस्ट्रेशन प्लेट के लिए थाईलैंड की मुद्रा में 40 लाख बहत अदा किए .....
आगे पढ़ें ...

6. क्या आप जानते हैं ?

[ फरवरी 2015 | संपादक द्वारा लिखित ]
  मेढक को प्रत्येक वस्तु रंगीन दिखाई देती है। आधुनिक सर्कस की शुरुआत सन १७६८ में इंग्लैण्ड में हुई। स्टार फिश नामक मछली की प्रत्येक बांह के अग्रभाग पर एक आँख होती है। इंग्लैण्ड में प्रथम पब्लिक स्कूल सन १३८७ में विनचेस्टर में खोला गया था। हमारे शरीर पर लगभग १० लाख बाल होते .....
आगे पढ़ें ...

7. कुछ अनजानी बातें

[ जनवरी 2015 | संपादक द्वारा लिखित ]
 एक शोध यह बात सामने आई है कि वे बच्चे अधिक होशियार होते हैं, जिनके परिवार में देश-दुनिया में चल रहे ताजा घटनाक्रमों के बारे में बातचीत होती है। अगर आपको अंतरिक्ष में छोड़ दिया जाए, तो आपका शरीर सामान्य आकार से फूलकर तीन गुना ज्यादा हो जायेगा। पृथ्वी के 70 प्रतिशत भाग पर पानी है, जिसमें 10 प्रतिशत .....
आगे पढ़ें ...

8. चाँद से सम्बन्धित रोचक जानकारी

[ दिसम्बर 2014 | मो. फिरोज़ खान द्वारा लिखित ]
1. अब तक सिर्फ 12 मनुष्य चाँद पर गए है। 2. चांद धरती के आकार का सिर्फ 27 प्रतिशत हिस्सा है। 3. चाँद का वजन लगभग 81,00,00,00,000(81 अरब) टन है। 4. पूरा चाँद आधे चाँद से 9 गुना ज्यादा चमकदार होता है। 5. नील आर्मस्ट्रोंग ने चाँद पर जब अपना पहला कदम रखा तो उससे जो निशान चाँद क जमीन पर बना अब तक है और अगले कुछ लाख सालो तक .....
आगे पढ़ें ...

9. विश्व के प्रमुख संगठन और उनके मुख्यालय

[ नवम्बर 2014 | मो. फिरोज़ खान द्वारा लिखित ]
विश्व के प्रमुख संगठन और उनके मुख्यालय: 1. गैट (GATT) - जेनेवा   2. एमनेस्टी इंटरनेशनल - लंदन   3. एशियाई विकास बैंक (ADB) - मनीला  4. दक्षिण पूर्वी एशियाई राष्ट्रों का संघ (ASEAN) - जकार्ता   5. नाटो (NATO) - ब्रुसेल्स   6. अफ़्रीकी एकता संगठन (OAU) - आदिस-अबाबा   7. रेडक्रॉस - जेनेवा   8. सार्क (SAARC) - .....
आगे पढ़ें ...

10. आइये जानें भारत विश्व गुरू क्यों था ??

[ अक्टूबर 2014 | मो. फिरोज़ खान द्वारा लिखित ]
१. शतरंज के खेल की खोज भारत मे हुई थी। २. भारत ने अपने इतिहास में किसी भी देश पर कब्जा नहीं किया। ३. अमरिका के जेमोलोजिकल संस्थान के अनुसार1896 तक भारत ही केवल हीरो का स्त्रोत था। ४. भारत 17वीं सदी तक धरती पर सबसे अमीर देश था इसलिए यह सोने की चीड़िया कहलाता था। ५.भारत में हीं संख्या पद्धति का .....
आगे पढ़ें ...

11. कुछ अनजानी बातें

[ सितम्बर 2014 | मो. फिरोज़ खान द्वारा लिखित ]
1.  चीनी को जब चोट पर लगाया जाता है तो दर्द तुरंत कम हो जाता है... 2.  जरूरत से ज्यादा टेंशन आपके दिमाग को कुछ समय के लिए बंद कर सकती है... 3. 92% लोग सिर्फ हस देते हैं जब उन्हे सामने वाले की बात समझ नही आती... 4. बतक अपने आधे दिमाग को सुला सकती हैं जबकि उनका आधा दिमाग जगा रहता.... 5. कोई भी अपने आप को सांस रोककर नही .....
आगे पढ़ें ...

12. पानी कार 555

[ अगस्त 2014 | संपादक द्वारा लिखित ]
सड़क पर फर्राटे से दौड़ने वाली अच्छी से अच्छी कारें पानी को देखते हो जैसे बेबस हो जाती हैं। अब एक ऐसी कार बनाई गई है, जो सड़क के साथ ही पानी पर भी अच्छे से फर्राटे से दौड़ती है। पानी और सड़क दोनों पर चलने वाली इस कार को मिब्स एक्वाड़ा नाम दिया गया है। इस कार को सिर्फ एक बटन दबाकर दौड़ने वाला बनाया जा सकता है। करीब एक .....
आगे पढ़ें ...

13. दो अजूबे: एक छोटा, एक बड़ा

[ अगस्त 2014 | संपादक द्वारा लिखित ]
 दुनिया का सबसे छोटा पक्षी हमिंग बर्ड है। उसकी लम्बाई कोई 6 सेंटीमीटर है। उसका आकार आदमी की अंगुली के बराबर भी नहीं है और वजन केवल 2 ग्राम। दुनिया में ऐसे उड़न जीव भी हैं जो इस पक्षी से 20 गुना बड़े हैं। इस प्रजाति का नर पक्षी बहुत रंगबिरंगा होता है। इसका रंग गहरा चमकीला, लाल, नीला और सफेद होता है। मादा के रंग .....
आगे पढ़ें ...

14. सर्पदंश आहार

[ अगस्त 2014 | संपादक द्वारा लिखित ]
 जहरीले सांपों को देखते ही लोग सिहर उठते हैं। लेकिन बिहार का 23 वर्षीय युवक मोहम्मद करीम मंसूरी सांप को देखते ही ख़ुशी से पागल हो उठता है। सर्पदंश के बगैर मोहम्मद करीम अपनी जीवन की कल्पना भी नहीं कर सकता। सांपों के विष को अपने जिस्म में उतारने के बाद ही उसे चैन की नींद आती है।     सुबह होते ही वह चाय या .....
आगे पढ़ें ...

15. गणित पढ़ें

[ अगस्त 2014 | संपादक द्वारा लिखित ]
   बहुत से छात्र ऐसे होते हैं, जो अपनी ओर से परीक्षाओं की तैयारी करने में कोई कसर नहीं छोड़ते हैं लेकिन फिर भी उनके परिणाम आशानुकूल नहीं आ पाते। इसका कारण गलत समय पर गलत विषय पढ़ना है। गणित का अध्ययन सुबह के समय करना चाहिए। जबकि इतिहास भूगोल व  अंग्रेजी जैसे विषयों को दोपहर या शाम के समय पढ़ना चाहिए। .....
आगे पढ़ें ...

16. अजीब विशेषताओं वाले वृक्ष

[ जुलाई 2014 | संपादक द्वारा लिखित ]
जल बरसाने वाला वृक्ष इंडोनेशिया के सुमात्रा द्वीप में एक ऐसा वृक्ष इंडोनेशिया के सुमात्रा द्वीप में एक ऐसा वृक्ष पाया जाता है जो जल बरसाता है। दोपहर के समय जब सूर्य की किरणें काफी तेज चमकती हैं, तब यह पेड़ हवा द्वारा भाप ग्रहण करता है, कुछ देर बाद यह भाप एकत्र होकर जल के रूप .....
आगे पढ़ें ...

17. शर्बत देने वाला पेड़

[ जुलाई 2014 | संपादक द्वारा लिखित ]
क्वींसलैंड में एक पेड़ पाया जाता है जो 40 से 60 फुट ऊँचा होता है। इस पेड़ की शाखायें ज्यों -ज्यों बढ़ती जाती हैं त्यों-त्यों एक दूसरे के समीप आती जाती हैं और एक समय आता है तब यह पूरा वृक्ष एक बड़ी बोतल की तरह दिखाई देने लगता है। इस पेड़ की लकड़ी बहुत कोमल तो होती ही है, साथ ही उसे पानी में घोला जाये तो पानी मीठा शर्बत बन .....
आगे पढ़ें ...

18. सबसे अधिक आयु का पेड़

[ जुलाई 2014 | संपादक द्वारा लिखित ]
संसार का सबसे अधिक आयु वाला पेड़ कैलिफोर्निया में 'डगलसफर' नामक पौधा है जिसकी आयु 4-5 हजार वर्ष के लगभग होती है। यह वृक्ष देखने से इतना वृद्ध नहीं लगता है। ऐसा माना जाता है कि इस वृक्ष की कभी एक शाखा भी नहीं काटी गयी है। अब तो सरकार द्वारा कानून बनाकर इसे काटना जुर्म माना गया है। इसकी छाल में “टैनिन .....
आगे पढ़ें ...

19. स्याही फेंकने वाला घोंघा

[ जून 2014 | संपादक द्वारा लिखित ]
हिन्द महासागर के घोंघों की आत्मरक्षा का तरीका देखकर आदमी को महान आश्चर्य हो सकता है। प्रकृति ने उनके शरीर के पीछे की ओर एक थैली सी बनाई है जिसमें काली स्याही भरी रहती है। घोंघे जब चाहते हैं, इस स्याही को अपनी इच्छानुसार बाहर निकाल सकते हैं। कोथर नामक एक विशेष मछली इन घोंघों को .....
आगे पढ़ें ...

20. मकड़ी का अनूठा जाला

[ जून 2014 | संपादक द्वारा लिखित ]
मकड़ी के जाले को आप सबने देखा होगा। किन्तु वह जाला कैसे बुनती है तथा उसमें अपने शिकार को कैसे फंसाती है, इसकी जानकारी काफी दिलचस्प है।     अपना जाला बुनने के लिए मकड़ी के शिकार में लगे 'स्पिनरेट' से रेशमी धागे की तरह एक द्रव्य निकलता है, जिसका प्रयोग वह जाले हेतु करती है। .....
आगे पढ़ें ...
इस अंक में ...